religion

‘लव-जिहाद’ और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का जनसंख्या विज्ञान

एक धार्मिक समुदाय के बीच किसी दूसरे धार्मिक समुदाय के बारे में झूठा प्रचार करना फ़ासीवादियों तथा धार्मिक-दक्षिणपंथी शक्तियों का पुराना हथकण्डा रहा है। फिर यह कैसे हो सकता था कि इस मामले में भारत के संघी-मार्का फ़ासीवादी पीछे रह जायेँ। भाजपा के 2014 के लोकसभा चुनावों के लिए पीएम उमीद्वार नरेन्द्र मोदी ने 2002 के गुजरात दंगों के बाद वहाँ हुए चुनाव के दौरान कहा था – “हम (मतलब हिन्दू) दो हमारे दो, वो (मतलब मुस्लिम) पाँच उनके पचीस।” इसके बाद 2004 में विश्व हिन्दू परिष्द के अशोक सिंघल ने हिन्दुओं के आगे परिवार नियोजन छोड़ने का ढोल पीटा। अशोक सिंघल यह तुर्रा बहुत पहले से छोड़ते आ रहे हैं, और भाजपाई सरकार वाले राज्यों में तो वह सरकारी मंच से यह मसला उछालते रहते हैं। पिछले 3-4 सालों में संघियों ने अपने इसी जनसंख्या विज्ञान को फिर से दोहराना शुरू कर दिया है, लेकिन अब वे इसे नए रंग में लपेट कर लाए हैं। पहले संघी संगठन मुसलमानों द्वारा अपनी जनसंख्या बढ़ाने का हौवा ही खड़ा करते थे, अब उन्होंने ने इसमें “लव-जिहाद” का डर भी जोड़ दिया है। संघियों के अनुसार मुसलमानों ने (यहाँ संघी मुस्लिम कट्ट्टरपंथी संगठन कहना भी वाजिब नहीं मानते क्योंकि संघियों के लिए सभी मुस्लिम लोग मुस्लिम कट्ट्टरपंथी संगठनों के सदस्य हैं) हिन्दू नवयुवतियों को प्यार के जाल में फँसाकर अपनी आबादी बढ़ाने के लिए मशीनों की तरह इस्तेमाल करने के लिए “लव-जिहाद” नामक “गुप्त” संगठित अभियान छेड़ा हुआ है।

India's sahme Muzaffarnagar riots: Conversations of rioters

Muzaffarnagar riots: Conversations of rioters prove planning and high-level support Lucknow-based Rihai Manch (RM) on 10 October released audio records of conversations on mobile phones between some rioters in Kutba-Kutbi village alongwith their transcripts. Both the audio records and their transcripts are in Hindi. Following is a translation of the full released records. The Milli Gazette Published Online: Nov 14, 2013 Print Issue: 1-15 November 2013

Conversion in India

There is a great debate happening on "Rare Book Society of India" group on facebook. Some one has come up with a book detailing how western powers are financing identity politics in the garb of humanitarian work for dalits and Dravidian folks in India. All this to undermine India's growing clout using human rights violations and cast / identity issues. Debate goes into conversion etc...

Some things I said on a FB group debate:

I do not believe Indian dalit is a radicalized, strong, united, and of ambiguous identity group. Its not even strong enough to protect its members getting raped, killed, humiliated on a daily basis. Even when in power, say in UP, dalit members of our society have not shown signs of "making them pay of historic injustices" type of behavior or conduct. So by clubbing them with terrorist movements be it Hindu, Muslim, Sikh or Isai (i.e. christian) and not to mention Maoists, we are doing more harm then good. It will add another section of our society to our righteous list of enemies.

Religion a divisive force

This is taken from a post I wrote on Facebook group debate: Religion is / has been a divisive force. Always was and will forever be. Our founding fore fathers recognized this and tried to keep it out of polity (eg. the constitution). They firmly believed (at least most of them) that religion is a weapon of mass destruction and partition amply showed this. It is again wake up call to all of us who soft peddle religion saying religion is a great but its usage by some is the problem. Na!

Subscribe to religion