riots

‘लव-जिहाद’ और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का जनसंख्या विज्ञान

एक धार्मिक समुदाय के बीच किसी दूसरे धार्मिक समुदाय के बारे में झूठा प्रचार करना फ़ासीवादियों तथा धार्मिक-दक्षिणपंथी शक्तियों का पुराना हथकण्डा रहा है। फिर यह कैसे हो सकता था कि इस मामले में भारत के संघी-मार्का फ़ासीवादी पीछे रह जायेँ। भाजपा के 2014 के लोकसभा चुनावों के लिए पीएम उमीद्वार नरेन्द्र मोदी ने 2002 के गुजरात दंगों के बाद वहाँ हुए चुनाव के दौरान कहा था – “हम (मतलब हिन्दू) दो हमारे दो, वो (मतलब मुस्लिम) पाँच उनके पचीस।” इसके बाद 2004 में विश्व हिन्दू परिष्द के अशोक सिंघल ने हिन्दुओं के आगे परिवार नियोजन छोड़ने का ढोल पीटा। अशोक सिंघल यह तुर्रा बहुत पहले से छोड़ते आ रहे हैं, और भाजपाई सरकार वाले राज्यों में तो वह सरकारी मंच से यह मसला उछालते रहते हैं। पिछले 3-4 सालों में संघियों ने अपने इसी जनसंख्या विज्ञान को फिर से दोहराना शुरू कर दिया है, लेकिन अब वे इसे नए रंग में लपेट कर लाए हैं। पहले संघी संगठन मुसलमानों द्वारा अपनी जनसंख्या बढ़ाने का हौवा ही खड़ा करते थे, अब उन्होंने ने इसमें “लव-जिहाद” का डर भी जोड़ दिया है। संघियों के अनुसार मुसलमानों ने (यहाँ संघी मुस्लिम कट्ट्टरपंथी संगठन कहना भी वाजिब नहीं मानते क्योंकि संघियों के लिए सभी मुस्लिम लोग मुस्लिम कट्ट्टरपंथी संगठनों के सदस्य हैं) हिन्दू नवयुवतियों को प्यार के जाल में फँसाकर अपनी आबादी बढ़ाने के लिए मशीनों की तरह इस्तेमाल करने के लिए “लव-जिहाद” नामक “गुप्त” संगठित अभियान छेड़ा हुआ है।

राम के नाम - Indian's shame in the name of god

IN THE NAME OF GOD focuses on the campaign waged by the militant Vishwa Hindu Parishad (VHP) to destroy a 16th century mosque in Ayodhya said to have been built by Babar, the first Mughal Emperor of India. The VHP claim the mosque was built at the birthsite of the Hindu god Ram after Babar razed an existing Ram temple. They are determined to build a new temple to Ram on the same site. This controversial issue, which successive governments have refused to resolve, has led to religious riots which have cost thousands their lives, culminating in the mosque's destruction by the Hindus in December of 1992. The resulting religious violence immediately spread throughout India and Pakistan leaving more than 5,000 dead, and causing thousands of Indian Muslims to flee their homes.

India's sahme Muzaffarnagar riots: Conversations of rioters

Muzaffarnagar riots: Conversations of rioters prove planning and high-level support Lucknow-based Rihai Manch (RM) on 10 October released audio records of conversations on mobile phones between some rioters in Kutba-Kutbi village alongwith their transcripts. Both the audio records and their transcripts are in Hindi. Following is a translation of the full released records. The Milli Gazette Published Online: Nov 14, 2013 Print Issue: 1-15 November 2013

Subscribe to riots